60 एकड़ जमीन, फिर भी भूखे मर रहीं गाय?

धौराहरा विकासखंड रमिया बेहड़ के ग्राम पंचायत सुजानपुर के गौशाला के स्थित बेहद नाजुक है और वहां पल रही गायों की दुर्दशा का बखान खबर में नहीं किया जा सकता! गौ सेवक रिंकू पांडे को खबर मिलेगी सुजानपुर गौशाला में गाय की हालत ज्यादा खराब है उसको दवाई देना है गौ सेवक रिंकू पांडे जब वहां पहुंचे तो उन्होंने देखा कि गाय भूख के मारे तड़प रही हैं उन्होंने प्रधान पति अच्छेलाल और ग्राम विकास अधिकारी सरोज वर्मा से कि उसने भी इनको धमकी देते हुए देख लेने की बात कही और इस मामले में न पढ़ने की हिदायत दे दी गो सेवक रिंकू पांडे ने उच्च अधिकारियों से शिकायत करने के बाद कहीं ग्राम विकास अधिकारी सरोज वर्मा ने कहा जो आप कर सकते हैं कर लीजिए क्या उखाड़ लेंगे. उसके बाद गौ सेवक के द्वारा पत्रकारों को बुलाया गया जब कई पत्रकार मौके पर पहुंचे तो वहां पर खाने को भूसा नहीं था जानवर भूख के मारे तड़प रहे थे वह उठकर चलने में सक्षम नहीं थे कई जानवरों की आंखें फूट चुकी थी उनमें किड़ा पड़े थे और जानवर जिंदा थे दर्द  से हाथ पैर चला रहे थे तो कुछ जानवरों को गांव वालों ने उठाकर बैठा रहे हैं तो वह उठकर बैठने की स्थिति में नहीं थे चारों तरफ लाश की दुर्गंध आ रही थी मौके पर पांच जानवर मृत अवस्था में पाए गए चारा नहीं था जो मोटर/जेटपंप लगाया था वह भी उखाड़ लिया गया था. खाद की नीलामी होती है वहा भी पूर्व प्रधान पति अच्छे लाल और सेक्रेटरी की मिलीभगत से अपने अपने हिस्से बाटे में कर ली गई. ग्रामीणों ने बताया कि गौशाला के नाम पर 60 एकड़ जमीन चारागाह के लिए है यह सब प्रधान और उनके चमचों ने जोत रखा है वही बंगाली कॉलोनी के रहने वाले आनंद राय ने बताया कि मैंने गौशाला पर 12 बीघा जमीन दान में दी थी जिसने प्रधान द्वारा मूंगफली और गेहूं की खेती की जा रही जिसकी मैंने शिकायत सेक्रेटरी और अन्य उच्च अधिकारियों से भी की थी परंतु कोई कार्यवाही नहीं हुई प्रधान से जानकारी की गई तो उसने कहा हम को जितना पैसा मिलता था उतना हमने लगा दिया अब हमारे पास चार्ज नहीं है पैसा नहीं तो हम क्या करें! अगला प्रधान आएगा देखेगा मौके पर 100 से ज्यादा ग्रामीण इकट्ठा हो गए और उन्होंने जमीन खोदकर गायों के शव दिखानी चालू कर दी.
सुजानपुर गौशाला में 60 एकड़ जमीन चारागाह की है जिस पर कुछ लोगों ने अवैध रूप से कब्जा कर रखा है नंदकिशोर 1 एकड़ रामस्वरूप पुत्र सरजू 2 एकड़ लक्खा 9 बीघा मैकू लाल 4 एकड़ गौशाला में काम करने वाले को2500/ महीना दिया जाता है जिनकी दैनिक मजदूरी मनरेगा में काम करने वाले मजदूर से भी कम है

Check Also

नगर निगम में अधिकारी पड़े सुस्त, नहीं किसी को शहर की सुध

Author : Rishabh Tiwari कानपुर। कानपुर नगर निगम का यूं तो शहर को साफ सुथरा और …