ममता पर ‘हमले’ को कांग्रेस ने बताया ‘बहाना’

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बायें पैर के टखने और पांव की हड्डियों में गंभीर चोट आई हैं और उनके दायें कंधे, हाथ तथा गले पर भी चोट आई है। बुधवार रात को की गई शुरुआती चिकित्सकीय जांच के बाद सरकारी एसएसकेएम अस्पताल के एक वरिष्ठ डॉक्टर ने यह जानकारी दी। ममता बनर्जी की इन चोटों की वजह से टीएमसी की आज जारी होने वाली घोषणा-पत्र के कार्यक्रम को टाल दिया गया है। वहीं, ममता बनर्जी पर कथित हमले को लेक टीएमसी चुनाव आयोग जाने की तैयारी में है। इधर, कांग्रेस और भाजपा ने भी सवाल उठाने शुरू कर दिए हैं। तो चलिए जानते हैं मामले से जुड़े सारे लेटेस्ट अपडेट्स।

-कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि ममता बनर्जी पर कथित हमले के पीछे अगर कोई साजिश है, तो CBI, NIA, CID को बुलाएं या SIT का गठन करें। आप (ममता बनर्जी) ऐसा क्यों नहीं करती? साजिश का बहाना बनाकर आप जनता की सहानुभूति प्राप्त करना चाहती हैं। पुलिस, सीसीटीवी कहां थे? सीसीटीवी फुटेज निकालिए और सच सामने आएगा।

-तृणमूल कांग्रेस के नेता शेख सूफियान की ओर से दी गई शिकायत के आधार पर पुलिस ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हुए हमले में मामला दर्ज किया: अधिकारी (पीटीआई इनपुट)

-ममता बनर्जी को चोटें हमले में आई हैं या फिर यह एक हादसा था, इसका सच जानने को प्रशासन जुट गया है। पर्वी मेदिनीपुर के जिला मजिस्ट्रेट विभू गोयल और एसपी प्रवीण प्रकाश ने नंदीग्राम के बिरुलिया बाजार का दौरा किया, जहां कल शाम अज्ञात लोगों द्वारा कथित रूप से धक्का दिए जाने के बाद मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी को चोटें आईं।

ममता बनर्जी पर कथित हमले के खिलाफ टीएमसी कार्यकर्ताओं ने ट्रेनें रोकीं:  गुरुवार की सुबह टीएमसी समर्थकों और कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हुए कथित हमले के विरोध में दक्षिण बंगाल में सियालदह-हसनाबाद लाइन पर कदंबगाछी स्टेशन के पास ट्रेनों को रोक दिया।

– ममता बनर्जी की चोटों की वजह से आज टीएमसी को घोषणा-पत्र जारी नहीं होगा।

-ममता बनर्जी पर हुए कथित हमले पर पार्टी मामले को लेकर चुनाव आयोग के पास जा रही है। टीएमसी के नेता पार्थ चटर्जी ने कहा है कि पार्टी ममता बनर्जी के साथ हुई हमले की घटना को चुनाव आयोग के सामने उठाएगी।

पत्रकारों से बात करते हुए पार्थ चटर्जी बोले, “जो लोग कायर हैं वे लगातार ममता को रोकने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन कोई भी उसे रोक नहीं सका। आज की घटना से पता चलता है कि ममता बनर्जी पर हमला एक साजिश थी, पहले राज्य के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजी) कानून और व्यवस्था को बदल दिया गया था। उसके बाद राज्य के पुलिस महानिदेशक को हटा दिया गया, अब यह घटना हुई।”

डॉक्टर ने बताया दीदी का हाल

ममता बनर्जी की इंजरी का अपडेट देते हुए डॉक्टर ने बताया कि अस्पताल के डॉक्टरों ने बनर्जी के स्वास्थ्य पर अगले 48 घंटे तक नजर रखने का फैसला किया है। पूर्वी मेदिनीपुर जिले के नंदीग्राम में शाम में कथित हमले के बाद उन्होंने सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत की थी। उन्होंने बताया कि तृणमूल कांग्रेस प्रमुख को हल्का बुखार है और उन्हें बांगुर तंत्रिकाविज्ञान संस्थान में एमआरआई के तुरंत बाद अस्पताल के वीवीआईपी वुडबर्न ब्लॉक में एक विशेष वार्ड में भेजा गया है।

48 घंटे की निगरानी में ममता

ममता बनर्जी का इलाज कर रही डॉक्टरों की टीम के एक डॉक्टर ने कहा, ‘हमलोग अगले 48 घंटे उन पर नजर रखेंगे। उनकी और जांच की जाएगी और रिपोर्ट के आकलन के बाद ही हमलोग आगे के उपचार पर फैसला करेंगे।’ पूर्वी मेदिनीपुर जिले में नंदीग्राम से जैसे ही बुधवार रात को उन्हें अस्पताल लाया गया, डॉक्टरों ने मुख्यमंत्री का एक्स-रे किया।

5 डॉक्टरों की टीम कर रही इलाज

एसएसकेएम अस्पताल के वुडबर्न ब्लॉक के 12.5 विशेष केबिन में उनका इलाज चल रहा है। सरकारी अस्पताल में बनर्जी के उपचार के लिए पांच डॉक्टरों की टीम बनायी गयी है। डॉक्टरों की टीम में एक हृदयरोग विशेषज्ञ, एक एंडोक्राइनोलॉजिस्ट, एक जनरल सर्जन, एक हड्डी रोग विशेषज्ञ और एक मेडिसिन डॉक्टर शामिल है। नंदीग्राम में विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार के दौरान अज्ञात बदमाशों के कथित रूप से उन्हें धक्का देने के कारण वह जमीन पर गिर गयीं जिससे उनके पैर और कमर में चोट आयी। इससे पहले बनर्जी ने नंदीग्राम सीट से अपना नामांकन दाखिल किया था।

Check Also

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्कूली बच्चों के साथ बनाया आजादी का अमृत महोत्सव

लखनऊ,द ब्लाट। हाथों में राष्ट्रध्वज तिरंगा, मन में राष्ट्र के लिए कुछ कर गुजरने की …