लखनऊ: सीएम ने 1148 पुलिस कार्मिकों को सौंपा नियुक्ति पत्र

द ब्लाट न्यूज़ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि उत्तर प्रदेश पुलिस बल में दिन प्रतिदिन के कार्यों व डाॅक्यूमेन्टेशन के कार्यों को सम्पादित करने में लिपिकीय संवर्ग की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने लिपिकीय संवर्ग के 1148 नवचयनित पुलिस कार्मिकों को पुलिस परिवार का हिस्सा बनने पर बधाई  दी।मुख्यमंत्री आज यहां लोक भवन में निष्पक्ष एवं पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया के तहत उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड द्वारा चयनित लिपिकीय संवर्ग के कुल 1148 पुलिस कार्मिकों के नियुक्ति पत्र दिया। इन नवचयनित 1148 पुलिस कार्मिकों में 217 उपनिरीक्षक (गोपनीय), 587 सहायक उपनिरीक्षक (लिपिक) एवं 344 सहायक उपनिरीक्षक (लेखा) सम्मिलित हैं। इन नवचयनित पुलिस कार्मिकों को प्रदेश के अन्य जनपदों में कार्यक्रम आयोजित कर जनप्रतिनिधियों के माध्यम से आज नियुक्ति पत्र प्रदान किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के सबसे बड़े सिविल पुलिस बल का हिस्सा बनना नवचयनित अभ्यर्थियों के लिए गौरवपूर्ण क्षण है। सभी नवचयनित पुलिस कार्मिक निष्पक्ष भाव से, ईमानदारी पूर्वक अपने दायित्वों का निर्वहन करें। अपने कर्तव्यांे का ईमानदारी पूर्वक निर्वहन राष्ट्रीय कार्य है। उत्तर प्रदेश पुलिस बल के लिपिकीय संवर्ग भर्ती में प्रदेश के विभिन्न जनपदों के अभ्यर्थी चयनित हुए हैं। बड़े पैमाने पर महिला अभ्यर्थियों का भी चयन हुआ है।

 

6 वर्ष पूर्व उत्तर प्रदेश को प्रश्न प्रदेश के रूप में देखा जाता था। लोग उत्तर प्रदेश को समस्या देने वाले प्रदेश के रूप में मानने लगे थे। अब उत्तर प्रदेश के बारे में लोगों की धारण बदली है। आज उत्तर प्रदेश देश के ग्रोथ इंजन के रूप में कार्य कर रहा है।प्रदेश सरकार ने मार्च, 2017 के बाद अतिरिक्त सहायता के बिना उन्हीं संसाधनों में शेष ढाई वर्षों की जगह डेढ़ वर्ष में 02 करोड़ 75 लाख से अधिक शौचालय प्रदेश के हर घर तक बनाने का कार्य किया। उत्तर प्रदेश के इस क्षमता का एहसास पूरे देश में किया। उत्तर प्रदेश के परसेप्शन को बदलने में उत्तर प्रदेश पुलिस बल ने महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किया है। प्रदेश सरकार ने बेहतर कानून व्यवस्था स्थापित की है। विगत 06 वर्षों में राज्य में एक भी दंगा नहीं हुआ। संगठित अपराध पूरी तरह समाप्त हो चुके हैं। प्रदेश में कोइ भी आतंकी घटना नहीं घटित हुई। राज्य में पर्व एवं त्योहार शान्तिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हो रहे हैं। धर्म स्थलों से एक सप्ताह में 01 लाख 22 हजार से अधिक लाउड स्पीकर स्वतः भाव से बिना विवाद के उतर गये। मुख्यमंत्री ने कहा कि सड़कें आवागमन के लिए होती हैं, न कि उपासना के लिए। अब प्रदेश में पर्व एवं त्योहारों में सड़कों में उपासना का कार्य नहीं होता। सड़क पर न ही नमाज होती है, न ही हनुमान चालीसा का पाठ।

बहन-बेटियां स्वतंत्र भाव से अपने स्कूल जाती हैं। उत्तर प्रदेश का आम जनमानस यह परिवर्तन देख रहा है। आज उत्तर प्रदेश देश में सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था के क्षेत्र में अग्रणी राज्यों में है। विगत 06 वर्षों में बिना किसी प्रश्न चिन्ह के उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड द्वारा कुल 01 लाख 56 हजार से अधिक पुलिस कार्मिकों का चयन किया जा चुका है। इसमें 22,500 से अधिक महिला पुलिस कार्मिक शामिल हैं। बोर्ड ने इस दौरान 01 लाख 29 हजार से अधिक प्रमोशन की कार्यवाही सम्पन्न की है। वर्तमान में 62 हजार से अधिक पुलिस कार्मिकों की भर्ती प्रक्रिया संचालित हैं। यह उसी प्रकार ईमानदारी पारदर्शिता एवं तकनीक का उपयोग करते हुए सम्पन्न की जाएं।प्रदेश सरकार द्वारा मिशन शक्ति के माध्यम से महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान व स्वालम्बन को बढ़ाने का कार्य किया जा रहा है। आज पूरे देश में मिशन शक्ति का कार्य हो रहा है। आजादी के बाद 70 वर्षों में जितनी महिला पुलिस कार्मिक थीं, विगत 06 वर्षों में राज्य सरकार ने उससे कई गुना ज्यादा महिला पुलिस कार्मिकों की तैनाती की है।

इन महिला कार्मिकों द्वारा सुरक्षा के नए मानक गढ़े जा रहे हैं। राज्य सरकार ने पुलिस बल के प्रशिक्षण की क्षमता को बढ़ाकर तीन गुना किया। प्रदेश में पहले 02 साइबर थाने थे। राज्य सरकार ने हर रेंज में एक साबइर थाना स्थापित किया है। अब हर जनपद में एक साइबर थाना स्थापित करने की कार्यवाही चल रही है। सुरक्षा की सुदृढ़ता को निरन्तर बनाए रखा जाए। अगले डेढ़ से दो माह में प्रदेश के सभी थानों में सी0सी0टी0वी0 कैमरे लगाए जाएं तथा अगले तीन माह में प्रथम चरण में गृह विभाग तथा नगर विकास विभाग, बैंकर्स व अन्य सामाजिक प्रतिष्ठानों के साथ मिलकर 17 नगर निगम व गौतमबुद्ध नगर को सेफ सिटी के रूप में विकसित करें। सेफ सिटी के माध्यम से सुरक्षा व्यवस्था चाक-चैबन्द की जाए।मुख्यमंत्री  ने कहा कि  वर्ष 2018 में आयोजित यू0पी0 इन्वेस्टर्स समिट से 4.68 लाख करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए, वहीं कानून व्यवस्था की मजबूत स्थिति के कारण फरवरी, 2023 में आयोजित यू0पी0 ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-2023 में 36 लाख करोड़ के निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। यह बढ़ता हुआ निवेश इस बात को सिद्ध करता है कि प्रदेश में निवेश का उपयुक्त माहौल है।

इस इन्वेस्टर फ्रेण्डली वातावरण को बनाए रखना हमारी जिम्मेदारी है। हम सभी को समय के अनुरूप आगे बढ़ना होगा। पुलिस कार्मिकों को तकनीकी रूप से सक्षम बनाना होगा।उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि आज अपराधी और माफिया थर-थर कांप रहे हैं। पहले इन्हीं अपराधी एवं माफियाओं का मनोबल बढ़ा रहता था। आज प्रदेश से संगठित अपराध समाप्त हो चुका है। वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री  सुरेश कुमार खन्ना ने कहा कि मुख्यमंत्री  के नेतृत्व में प्रदेश सरकार ने  विगत 06 वर्षाें में रूल आॅफ लाॅ को कायम किया है।पहले इसी योग्यता को पीछे ढकेलने का कार्य किया जाता था। प्रदेश सरकार युवाओं को 02 करोड़ टैबलेट, स्मार्टफोन उपलब्ध करा रही है। लोगों का विश्वास पुलिस बल की कार्य प्रणाली में बढ़ा है।इस अवसर पर प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री, गृह व सूचना संजय प्रसाद, पुलिस महानिदेशक  विजय कुमार, पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड की अध्यक्ष रेणुका मिश्रा, स्पेशल डी0जी0 लाॅ एण्ड आर्डर प्रशान्त कुमार, वरिष्ठ अधिकारी  उपस्थित रहे।

Check Also

लखनऊ में एक बुजुर्ग ने कुत्तों के पिल्लों की गर्दन मरोड़कर मारा डाला, वीडियो वायरल

लखनऊ । उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शनिवार को एक वीडियो तेजी से वायरल …