कानपुर नगर: एकदिवसीय राष्ट्रीय संस्कृत संगोष्ठी का आयोजन

द ब्लाट न्यूज़ उत्तर प्रदेश राज्य उच्च शिक्षा परिषद, लखनऊ द्वारा प्रायोजित एवं डी0ए-वी0 कालेज, कानपुर के संयुक्त तत्वावधान में शनिवार को संस्कृत वाङ्मय में समाजोपयोगी संदर्भ विषयक राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संस्कृत विभागाध्यक्ष प्रो0 अनिल कुमार सिन्हा ने अभ्यागत अतिथियों का स्वागत करते हुए देववाणी की महत्ता एवं वर्तमान में उसकी उपादेयता को इंगित किया।

विषय प्रवर्तन करते हुए प्रो0 विनोद कुमार पाण्डेय ने संस्कृत साहित्य के सामाजिक सरोकार पर प्रकाश डाला और इसे लोककल्याणकारी साहित्य बतलाया, इसमें एकात्म मानववाद और विश्व वन्धुत्व तथा विश्वमैत्री का संदेश संग्रहित है, यह भी सूचित किया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में प्रो0 महावीर अग्रवाल, प्रतिकुलपति पतंजलि, वि0वि0, हरिद्वार ने वैदिक साहित्य में यज्ञ-विधान और उसकी सामाजिक उपयोग को उल्लेखित किया, प्रो0 विनय कुमार विद्यालंकार, मुख्यवक्ता ने दार्शनिक प्रस्थानों में मनुष्य का श्रेष्ठ जीवन जीने के लिए पुरुषार्यचतुष्ट्यों की अनिवार्यता पर बल दिया। प्रो0 रामहित त्रिपाठी, पूर्व प्राचार्य कृषक महाविद्यालय वस्ती ने उपनिषदों में मानवकल्याण के निमित्त सन्दर्भों के सम्बन्ध में विस्तार से विचार प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में विभिन्न प्रातों से वदसपदम एवं वििसपदम सम्मिलित संस्कृत विद्वानों एवं शोध छात्रों जिनकी संख्या 148 है अपने शोध पत्रों का वाचन किया।

कार्यक्रम के अन्तिम समापन सत्र में प्रो0 राधेश्याम गंगवार ने संस्कृत काव्यग्रन्थों की सामाजिक उपयोगिता पर अपना व्याख्यान दिया। प्रो0 नीलम त्रिवेदी में समग्र संस्कृत-साहित्य के लोककल्याणकारी स्वरूप को रेखांकित किया, प्रो0 विजय लक्ष्मी त्रिवेदी ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए सभी शोध पत्रों की समीक्षा प्रस्तुत की तथा व्याकरण शास्त्र की सामाजिक उपादेयता पर भी प्रकाश डाला। कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र का संचालन डा0 सवितुर प्रकाश गंगवार ने एवं समापन सत्र का संचालन डा0 अमित द्विवेदी ने किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्राचार्य प्रो0 अरुण कुमार दीक्षित ने कहा कि संस्कृत, भारतीय संस्कृति को जानने, समझने और चरित्रनिर्माण की कुन्जी है।

प्राचीन ज्ञान-विज्ञान को और जीवन-दर्शन को भली प्रकार से अभिव्यक्त करने वाला साहित्य संस्कृत साहित्य है। डॉ0 ममता शर्मा ने धन्यवाद ज्ञापन किया। संस्कृत विभाग के सभी शिक्षक एवं शिक्षणेत्तर कर्मचारी पूर्ण तन्मयता से कार्यक्रम में सम्मिलित हुए, डी0ए-वी0 महाविद्यालय एवं विभिन्न अन्य महाविद्यालय के शिक्षक भी कार्यक्रम में सहभागी बने। इस अवसर पर प्रो. सुधीर श्रीवास्तव, प्रो. पुष्पेन्द्र त्रिपाठी, प्रो. अनिल पंडा, मीडिया प्रभारी प्रो. डी. पी. राव, आदि उपस्थित रहे।

Check Also

कानपुर: युवक ने प्रेम-प्रसंग में ट्रेन से कटकर दे दी जान …

कानपुर: चौबेपुर थानाक्षेत्र के भवानीपुर गांव में प्रेम-प्रसंग के चलते युवक ने ट्रेन से कटकर …