देशब्रेकिंग न्यूज़राज्य

भाजपा में अपनी सेवा भाव का समर्पण कर लेखिका व गीतकार मलिका बब्बन सिंह राजपूत ने लिया गृहस्थ संन्यास

 

सुल्तानपुर:- पूज्य गुरुदेव अवधूत उग्रचण्डेश्वर कपाली बाबा के सानिध्य में संसार से मोह माया त्याग कर आशीर्वाद लेते हुए मल्लिका राजपूत को कपाली बाबा ने कहा माँ मैत्तरायणी योगिनी के नाम से जाना जाए। विदित हो कि मुंबई मायानगरी से सम्बंध रखने वाली मलिका राजपूत अपने कर्म क्षेत्र में काफ़ी अच्छा प्रभाव रखती हैं। अभी तक उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऊपर लिखी नमो शासक नाम की किताब 1 फ़िल्म, 2 वेब सिरीज़, 6000 ग़ज़लें, व नामचीन सिंगर जगजीत सिंह जी से लेकर पद्म श्री भजन सम्राट अनूप जलोटा के साथ-साथ कई सिंगर व म्यूज़िक कम्पनी के साथ काम किया है। अचानक से उनके इस सन्यास की घोषणा से देश व प्रदेश के साथ उनके ग्रह जनपद सुल्तानपुर में कौतूहल मचा दिया है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश विदेश में भारत का परचम लहरा रहे हैं और वर्षों बाद देश को 370 मुक्त कश्मीर दिया। राम मंदिर दिया। उनके फ़ैसलों और क़ानूनों का विरोध अब एक सामान्य प्रक्रिया बन चुका है। इस तरह के कर्मयोगी प्रधानमंत्री हैं। उनके फ़ैसलों के ख़िलाफ़ बार-बार विपक्ष साज़िशन आंदोलन कर रहा है। जिस से क्षुब्ध होकर मेरा सांसारिक मोह भंग हो गया और आत्मा की जागृति की तरफ़ बढ़ गयी। मेरा नया संन्यासी नाम चरितार्थ हो इसकी कामना करती हूँ। और संत योगी आदित्य नाथ महाराज के हर फ़ैसले व प्रधानमंत्री के बनाए क़ानूनों का समर्थन करती हूँ। मलिका बब्बन सिंह राजपूत ने बताया कि प्रधानमंत्री के समर्थन में मैने गृहस्थ संन्यास लिया व माँ मैत्तरायणी योगिनी नाम को स्वीकार कर रही हूं। पूज्य गुरुदेव अवधूत उग्रचण्डेश्वर कपाली बाबा को गुरु मानकर जन कल्याण हेतु जीवन समर्पित करने का प्रण लेती हूँ।

रिपोर्ट:- राज कुमार शर्मा

Related Articles

Back to top button
Close
Close