अलीगढ: भगतगढ़ी गांव की क्षतिग्रस्त पुलिया तोड़ने व रोड़ पर जाम लगाने वाले लोगों पर दरोगा ने कराया मुकदमा दर्ज

द ब्लाट न्यूज़ थाना खैर क्षेत्र के भगतगढ़ी गांव की क्षतिग्रस्त पुलिया के पास टेंटीगाव रोड़ पर सोमवार की देर रात मथुरा के वृंदावन मंदिर में दर्शन करने के बाद बुलंदशहर जिले के थाना अरनिया क्षेत्र के ऊंचा गांव वापस लौट रहे बाइक सवार दो भाईयों के ऊपर कंटेनर पलटने के चलते दोनों भाइयों की कंटेनर के नीचे दबकर मौके पर ही मौत हो गई थी। हादसे के बाद कंटेनर सड़क किनारे खाई में पलट गया और चालक कंटेनर को छोड़कर मौके से फरार हो गया था।

 

 

हादसे के बाद आसपास के कई गांवों के गुस्साए लोगों ने सड़क पर जाम लगा दिया और क्षतिग्रस्त पुलिया को हथोड़ा व सब्बल से तोड़ना शुरू कर दिया। जिसके चलते सैकड़ों की तादाद में ग्रामीणों का जमावड़ा मौके पर लग गया। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और मथुरा टेडी गांव रोड पर क्षतिग्रस्त पुलिया के पास बैरियर लगाकर रास्ते को बंद कर दिया। जिसके बाद पुलिस ने सड़क पर जाम लगाने और क्षतिग्रस्त पुलिया को तोड़ने वाले 8 नामजद सहित 50 अज्ञात लोगों के खिलाफ दरोगा की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया।

वही आपको बता दें कि थाना खैर क्षेत्र के मथुरा टेडी गांव रोड स्थित भगत गढ़ी गांव की क्षतिग्रस्त पुलिया के पास दर्दनाक सड़क हादसा उस वक्त सामने आया था। जब बुलंदशहर जिले के थाना अरनिया क्षेत्र के ऊंचा गांव निवासी केके भारद्वाज उर्फ कृष्ण भारद्वाज और उसका बड़ा भाई विशाल भारद्वाज अपनी बहन के साथ बाइक पर सवार होकर गोवर्धन मंदिर से दर्शन करने के बाद अपने गांव वापस लौट रहे थे। तभी देर रात भगत गढ़ी गांव की क्षतिग्रस्त पुलिया के चलते कंटेनर बाइक सवार भाइयों के ऊपर पलट गया। जिसमें दो सगे भाइयों की कंटेनर के नीचे दबकर मौत हो गई थी जबकि बहन गंभीर रूप से घायल हो गए हादसे के बाद कंटेनर सड़क किनारे गहरी खाई में पलट गया और चालक कंटेनर को मौके पर छोड़कर फरार हो गया था। हादसे में दो बाइक सवार भाइयों की मौत के बाद सुबह भगतगढ़ी गांव के अलावा गांव अरनी, पलाचांद, हदय की नगरिया,खेड़ा सत्तू के ग्रामीण मौके पर पहुंचे और रोड़ पर जाम कर दिया था।

ग्रामीणों का कहना था। कि आए दिन सड़क हादसा पुलिया छोटी होने के कारण घटना होती रहती हैं। एक दर्जन से ज्यादा लोगों की जान सड़क हादसों में अब तक जा चुकी है। आरोप है कि जिला प्रशासन एवं जनप्रतिनिधियों से ग्रामीणों ने अनेक वार क्षतिग्रस्त पुलिया को लेकर अवगत कराया। बावजूद इसके ना जिला प्रशासन और ना ही जनप्रतिनिधियों ने इस मामले में कोई सुनवाई नही की। जिसके चलते लगातार दुर्घटनाऐं होती रही। एक्सीडेंट में कंटेनर के नीचे दबकर दो भाइयों की मौत के बाद घटना देख आसपास के ग्रामीणों का गुस्सा सड़क पर आ गया और क्षतिग्रस्त पुलिया को हथोड़ा व सब्बल से तोड़ना शुरू कर दिया। हादसे के बाद ही पुलिया पर भीड़ लग गई थी। पुलिया का निर्माण न होने पर नाराजगी जताने लगे। पुलिया के दोनों ओर बाउंड्री नही है। पुलिया की चौड़ाई भी कम है। पुलिया जर्जर है। ग्रामीणों के द्वारा इसके निर्माण की मांग कई बार की गई। लेकिन सुनवाई नही की गई। क्षेत्रीय विधायक एवं राजस्व राज्यमंत्री अनूप प्रधान व सांसद सतीश गौतम से भी शिकायत की गई थी। लेकिन कुछ नही हुआ। एक वर्ष में एक दर्जन से ज्यादा लोगों की इस पुलिया पर जान जा चुकी है। जिसके चलते आसपास के कई गांवों के गुस्साऐं लोगों ने जाम लगा दिया था। गुस्साए ग्रामीणों के द्वारा रास्ते पर लगाए गए जाम के बाद पूरे दिन रास्ता बंद हो जाने से राहगीर परेशान रहे। जिसके बाद पुलिस ने क्षतिग्रस्त पुलिया पर वैरियर लगा कर मथुरा टेडी गांव रोड को बंद कर दिया है।

वही पुलिस ने इलाका चौकी इंचार्ज संदीप वर्मा की तहरीर के आधार पर सड़क पर जाम लगाने वाले व पुलिया को तोड़ने वाले 8 नामजद लोगों सहित 50 अज्ञात ग्रामीणों के खिलाफ एकराय होकर सार्वजनिक सम्पत्ति नुकसान, रोड़ जाम करने की धाराओं में सुभाष, छोटू, किशनी, दिनेश, जीतू, संतोष,जैकी गांव भगतगढ़ी व अवनीष निवासी गांव अरनी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

Check Also

दोस्त ने परिवार के साथ मिल अपने ही दोस्त की पीट-पीटकर की हत्या,वीडियो वायरल

• शराब के नशे में दो दोस्तों के बीच हुआ झगड़ा,फिर शराबी दोस्त ने परिवार …