• January 26, 2021

केंद्रीय मंत्री के दामाद ने सड़क पर दिखाई गुंडागर्दी, लॉकअप में गुजरी रात, केस दर्ज

 केंद्रीय मंत्री के दामाद ने सड़क पर दिखाई गुंडागर्दी, लॉकअप में गुजरी रात, केस दर्ज

सोमवार की रात 8-9 बजे के बीच हर्षवर्धन जाधव पुणे के औंध क्षेत्र में कार से कहीं जा रहे थे. बताया जा रहा है कि जब अचानक हर्षवर्धन ने कार का दरवाजा खोला तो एक आदमी की बाइक उनकी कार के दरवाजे से टकरा गई, जिस कारण बाइक सवार और महिला सड़क पर गिर गए. इस बीच दोनों पक्षों में बहस हुई और आरोप है कि हर्षवर्धन ने बाइक सवार को लात-घूंसों से पीटना शुरू कर दिया.
केंद्रीय मंत्री रावसाहब दानवे के दामाद हर्षवर्धन जाधव को पुणे में गिरफ्तार किया गया है. वे औरंगाबाद जिले के कन्नड़ विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के विधायक रहे हैं. आरोप है कि हर्षवर्धन ने सड़क पर बाइक सवार लोगों को पीटा, जिसके बाद कुछ लोगों ने उनकी भी पिटाई की. बाद में मामला बढ़ा और केंद्रीय मंत्री के दामाद को रात लॉकअप में गुजारनी पड़ी.

क्या है मामला?

दरअसल, सोमवार की रात 8-9 बजे के बीच हर्षवर्धन जाधव पुणे के औंध क्षेत्र में कार से कहीं जा रहे थे. बताया जा रहा है कि जब अचानक हर्षवर्धन ने कार का दरवाजा खोला तो एक आदमी की बाइक उनकी कार के दरवाजे से टकरा गई, जिस कारण बाइक सवार और महिला सड़क पर गिर गए. इस बीच दोनों पक्षों में बहस हुई और आरोप है कि हर्षवर्धन ने बाइक सवार को लात-घूंसों से पीटना शुरू कर दिया.

पुलिस में दर्ज कराई गई शिकायत के मुताबिक, बाइक सवार 55 वर्षीय व्यक्ति ने एंजियोप्लास्टी और ओपन हार्ट सर्जरी होने की बात कही, लेकिन हर्षवर्धन ने उसकी पिटाई जारी रखी और उस व्यक्ति को मारने की कोशिश की.

हर्षवर्धन से हुई मारपीट

इस घटना के बाद कुछ ही दूरी पर अज्ञात लोगों ने डीएवी स्कूल के पास अंबेडकर चौक में हर्षवर्धन जाधव की पिटाई कर दी. जिससे हर्षवर्धन के कपड़े भी फट गए. बाद में हर्षवर्धन को पुलिस अपने साथ थाने ले गई और दोनों पक्षों की शिकायत दर्ज की गई.
कौन हैं हर्षवर्धन जाधव?

बता दें कि हर्षवर्धन जाधव केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे के दामाद हैं. दानवे और हर्षवर्धन के बीच संबध ठीक नहीं हैं. हर्षवर्धन औरंगाबाद के कन्नड़ के पूर्व विधायक भी रह चुके हैं. उनके दिवंगत पिता रायभान जाधव कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता थे और उनके द्वारा किसानों के लिए किये गये समाजकार्यों के कारण उन्हें कृषि महर्षि की उपाधि दी गई थी.

पुलिस ने किया गिरफ्तार

मालूम हो कि एक मामूली कहासुनी से शुरू हुआ विवाद हर्षवर्धन की गिरफ्तारी तक पहुंच गया. कहा जा रहा है कि दोनों पक्षों ने झगड़े को आपसी सहमति से निपटाने की इच्छा व्यक्त की थी, लेकिन अचानक शिकायतकर्ता ने हर्षवर्धन के खिलाफ शिकायत वापस लेने से इनकार कर दिया, जिसके बाद उनको गिरफ्तार कर लिया गया. पूर्व विधायक हर्षवर्धन को 15 दिसंबर की रात लॉकअप में गुजारनी पड़ी. उनपर हत्या की कोशिश का मुकदमा दर्ज हुआ है, साथ ही दूसरे पक्ष पर केस हुआ है.


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/newswebp/theblat.in/wp-includes/functions.php on line 4755