मनीषी ताइक्वांडो वेलफेयर एसोसिएशन की छात्राओं को मिसेस एसपी व एसपी ग्रामीण ने किया सम्मानित

 

शाहजहांपुर (आनन्दमोहन पाण्डेय) मुख्यमंत्री के आदेशानुसार पुलिस महानिदेशक उत्तर प्रदेश लखनऊ के दिशा निर्देश में महिला अपराधों के प्रति जागरूकता एवं महिला सशक्तिकरण हेतु चलाए जा रहे हैं मिशन शक्ति अभियान के अंतर्गत पुलिस अधीक्षक एस आनंद शाहजहांपुर के निर्देशन में रिजर्व पुलिस लाइन में पुलिसकर्मी महिलाएं एवं बहनों को सेल्फ डिफेंस व योग के प्रति जागरूकता एवं सेल्फ डिफेंस में ताइक्वांडो के मुख्य शिविर के साथ योग शिविर का आयोजन कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि मिसेज एसपी एवं एसपी ग्रामीण
अर्पणा गौतम के कर कमलों से किया गया।
इस अवसर पर मिसेज एसपी ने सम्बोधित करते हुए कहा कि माता पिता के साथ छोटे बच्चों को गुड टच व बेड टच के बारे में जरूर बताना चाहिए यह भी बताना आवश्यक है कि किस व्यक्ति का टच कैसा हो सकता है जिस को जानकर बच्चों में गलत व सही के प्रति जागरूकता आएगी। मिसेज एसपी ने बताया एक महिला अपने जीवन में विभिन्न चरणों से गुजरती है। बचपन से यौवन तक, फिर मातृत्व से रजोनिवृत्ति तक । इन सभी चरणों में वह अलग-अलग भूमिकाएँ निभाती है और इस बीच उन को तमाम चुनौतियों का सामना करना होता है।
इस अवसर पर एस एस पी ग्रामीण अपर्णा गौतम ने सम्बोधित करते हुए कहा कि बदलते सामाजिक परिवेश के बीच आज महिलाएं पहले की तुलना में कहीं अधिक महत्वाकांक्षी हो गई हैं वो चाहे बात अपने भविष्य की हो या फिर किसी और क्षेत्र की। आज महिलाओं की भूमिका उनकी पारंपरिक घरेलू महिलाओं या मां और बेटी की भूमिका से बिल्कुल अलग हो चुकी है। आज महिलाएं घर की चार दीवारी से निकलकर सामाजिक-आर्थिक और राजनीतिक जगत में लिए जा रहे फैसलों में बराबर की भूमिका अदा कर रही हैं।
इस अवसर पर मनीषी ताइक्वांडो वेलफेयर एसोसिएशन उ.प्र. के महासचिव व अंतरराष्ट्रीय ताइक्वांडो मास्टर डॉ. पुनीत मनीषी ने कहा कियह बात तो सौ प्रतिशत सच है कि भारतीय समाज में महिला को देवी लक्ष्मी के सामान पूजा जाता है। पर महिलाओं के प्रति नकारात्मक पहलू को भी नज़रअंदाज नहीं किया जा सकता। भारत में गुजरते एक एक पल में महिला का हर स्वरुप शोषित हो रहा है।अक्सर ऐसा देखा गया कि महिलाएं स्थिति की गंभीरता को किसी भी पुरुष की बजाए जल्दी भांप लेती है। अगर उन्हें किसी तरह की गड़बड़ी की आशंका लगती है तो उन्हें जल्द ही कोई ठोस कदम उठा लेना चाहिए।
इस अवसर पर पुराना जिला चिकित्सालय के योग प्रशिक्षक मृदुल कुमार गुप्ता ने महिलाओं को योगाभ्यास का महत्व बताते हुए बताया की प्राणायाम कई प्रकार के हैं परंतु आपको यहां सबसे आसान वाले को करना है। यानी की यह प्राणायाम के सबसे सामान्य प्रकार है परंतु इसका काफी लाभ है। इसे करने के लिए आपको सबसे पहले सुखासन या पदमासन में बैठना है ।
कार्यक्रम के अंत मे मुख्य अतिथियों ने कार्यक्रम को सफल बनाने वाली सेल्फ डिफेंस व योग की छात्राओं को पुरस्कार देकर सम्मानित किया से सम्मानित किया।
इस अवसर पर आर आई मुकेश रावत,आरपी सिंह, अंतरराष्ट्रीय खिलाडी ऐशान्या मनीषी, मिलिंद शील गौतम, आशुतोष अवस्थी, नेहा,योग सहायक चिवनाथ पाल अनुज मोहम्मद नसीम तथा समस्त पुलिसकर्मियों का सहयोग रहा।

blat