भारत को ‘हिन्दू राष्ट्र’ बनाने की मांग को लेकर परमहंस आचार्य ने शुरू किया आमरण-अनशन

अयोध्या। हिन्दुस्थान को हिन्दू राष्ट्र बनाने की मांग को लेकर तपस्वी छावनी के जगद्गुरु परमहंस आचार्य ने सोमवार से आमरण-अनशन शुरू कर दिया है। उन्होंने अपने आश्रम के सामने स्थित अशोक वृक्ष के नीचे अनशन पर बैठे हैं। उन्होंने बताया कि जब देश का बंटवारा धर्म के आधार पर हुआ और पाकिस्तान को मुस्लिम राष्ट्र घोषित कर दिया गया। फिर भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित करने में क्या आपत्ति है? अगर देश का बंटवारा धर्म के आधार पर नहीं हुआ। तो बंटवारे का कोई औचित्य ही नहीं है। पाकिस्तान व बांग्लादेश का भारत में विलय करके अखंड भारत की घोषणा कर देनी चाहिए। परमहंस ने कहा हिन्दुस्थान का अस्तित्व दीर्घकाल तक सुरक्षित रखने और अखंड भारत के लिए भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किया जाए। देश स्वतंत्र होने के बाद कश्मीर में हिंदुओं का जो नरसंहार हुआ है। अगर देश को हिंदू राष्ट्र नहीं बनाया गया। तो देश में कई कश्मीर हो जाएंगे। वर्तमान समय में पश्चिम बंगाल में हिंदुओं के साथ जो अत्याचार हो रहा है। वह किसी से छुपा नहीं है। उन्होंने कहा कि कश्मीर और पश्चिम बंगाल में संविधान की जैसी धज्जियां उड़ाई जा रही है। इसको देखते हुए देश को हिंदू राष्ट्र घोषित करने की आवश्यकता है। देश में जहां भी मुस्लिमों की आबादी अधिक है। वहां हिंदू प्रताड़ित हो रहा है। ऐसे में देश को हिन्दू राष्ट्र घोषित करके दहशत गर्द व जिहादी मानसिकता रखने वालो की नागरिकता समाप्त कर देनी चाहिए। देश को हिंदू राष्ट्र घोषित करके पाकिस्तान और बांग्लादेश में जितने हिंदू हैं। उनको भारत में बुला लेना चाहिए। यहां से मुस्लिमों को पाकिस्तान और बांग्लादेश भेजा जाए। गौरतलब है कि श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण की मांग को लेकर स्वामी परमहंस 12 दिनों तक आमरण-अनशन कर चुके हैं। उनके अनशन को खुद लखनऊ योगी आदित्यनाथ ने जूस पिलाकर तोड़वाया था। साथ ही अनशन के बाद मंदिर का ऐतिहासिक फैसला आया। अब राममंदिर का भव्य निर्माण हो रहा है।

blat