लखनऊ। एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से स्वास्थ्य भवन में अपर निदेशक, लखनऊ डॉ. दीपा त्यागी और एमएमजी अस्पताल, गाजियाबाद के वार्ड ब्वॉय विनोद की 06.26 मिनट की एक कथित ऑडियो में विभागीय अफसरों एवं एक राज्यमंत्री पर लगाये गए गंभीर आरोपों की जांच करवाए जाने की मांग की है। ऑडियो में डॉ. त्यागी कहती हैं कि एमएमजी अस्पताल, गाजियाबाद के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अनुराग भार्गव ने घूस की रेट चार गुणा कर दी है। एमबीबीएस के इंटर्न पहले काम पर नहीं आने के 20,0000 रुपये साल देते थे, जो डॉ. भार्गव ने सीधे 80,000 रुपये कर दिए, 40,000 पहले और 40,0000 बाद में। अपर निदेशक मेरठ डॉ. रेनू गुप्ता ने छुट्टी लेने के लिए 200 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से 6,000 प्रति माह को 15,000 हजार कर दिए। पहले मैटरनिटी लीव के 18,000 रुपये लगते थे। लेकिन, उन्होंने 36,000 रुपये कर दिए। गाजियाबाद विधायक एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री अतुल गर्ग के बारे में कहा कि वे डॉ. अनुराग भार्गव से कह सकते हैं और डॉ. भार्गव को उनकी बात माननी पड़ेगी पर वे बिना रुपये लिए नहीं कहेंगे। नूतन ने कहा कि ये समस्त तथ्य अत्यंत गंभीर हैं, जो एक इनसाइडर द्वारा कही जा रही बताई गयी है। उन्होंने कहा कि ऑडियो में कहीं भी कोई छेड़छाड़ नहीं दिखती है। अतः किसी विश्वसनीय फॉरेंसिक लैब से ऑडियो की जांच करवाते हुए मामले की उच्चस्तरीय एवं निष्पक्ष जांच करवाए जाने तथा इन आरोपों के संबंध में पूरे प्रदेश की स्थिति का आकलन करवाते हुए इस पर अंकुश लगवाए जाने की मांग की है।

blat