तूबा। कोविड-19 वैश्विक महामारी के बावजूद दसियों हजार मुसलमान स्थानीय सूफी परंपरा से जुड़ी वार्षिक ‘महा मगल’ कार्यक्रम के लिए इस सप्ताह सेनेगल के पवित्र शहर तूबा पहुंचे। सेनेगल में ‘मुरीद ब्रदरहुड’ के संस्थापक के सम्मान में यह कार्यक्रम आयोजित किय जाता है। इससे पहले, तूबा शहर में मगल के दौरान प्रति वर्ष करीब 30 लाख लोग यात्रा करते थे। सेनेगल की सीमाएं अब भी बंद हैं, जिसके कारण इस साल मंगलवार को यात्रा में अपेक्षाकृत कम लोगों ने हिस्सा लिया। कोविड-19 के बावजूद दसियों हजार लोग इस बार यात्रा के लिए सेनेगल पहुंचे। प्रवेश के लिए हैंड सेनेटाइजर का इस्तेमाल और मास्क पहनना अनिवार्य था। इटली से आए तीर्थयात्री माम थीएर्नो (41) ने कहा, ‘‘मगल नहीं करना उनके लिए बहुत मुश्किल होता। वैश्विक महामारी के मद्देनजर कई लोगों का कहना है कि तूबा में मगल का आयोजन नहीं होना चाहिए… मैं जानता हूं कि महामारी अब भी है, इसके बावजूद मैं यहां आया।’’ भले ही यात्रा के दौरान पूरी एहतियात बरती गई, लेकिन लोगों को मगल के बाद आगामी सप्ताहों में संक्रमण के मामले तेजी से फिर से बढ़ने की आशंका है। सेनेगल उन अफ्रीकी देशों में शामिल है, जहां संक्रमण के मामले सबसे पहले सामने आए थे। देश में संक्रमण के 15,000 से अधिक मामलों की पुष्टि हुई है और 312 लोगों की मौत हुई है।


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/newswebp/theblat.in/wp-includes/functions.php on line 4673