लघु उद्योग भारती अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह ने विश्व पशु दिवस पर ऐसे विचार प्रकट किए, और सरकार का कुछ निम्नलिखित बिन्दुओ पर सहयोग मांगा है

आज विश्व पशु दिवस यानी कि वर्ल्ड एनिमल डे है. हर साल 4 अक्टूबर को विश्व पशु दिवस मनाया जाता है. इस वर्ष यानी 2020 में रविवार का दिन है.यह एक अन्तरराष्ट्रीय दिवस है.इस दिन पशुओं के अधिकारों और उनके कल्याण आदि से संबंधित विभिन्न कारणों की समीक्षा की जाती है.जानवरों के महान संरक्षक असीसी केसेंट फ्रांसिस का जन्मदिवस भी 4 अक्टूबर को मनाया जाता हैं. ये जानवरों के महान संरक्षक थे. अन्तरराष्ट्रीय पशु दिवस के अवसर पर जनता को एक चर्चा में शामिल करना और जानवरों के प्रति क्रूरता, पशु अधिकारों के उल्लंघन आदि जैसे विभिन्न मुद्दों पर जागरूकता पैदा करना है.

इस दिवस को दुनिया भर में राष्ट्रीयता, विश्वास, धर्म और राजनीतिक विचारधारा के विभिन्न तरीकों से मनाया जाता है. विश्व पशु दिवस व्यक्तियों, समूहों और संगठनों के समर्थन और भागीदारी के माध्यम से दुनिया भर में पशु कल्याण मानकों में सुधार करने के उद्देश्य के साथ मनाया जाता है.

पशु दिवस का इतिहास
पहली बार विश्व पशु दिवस का आयोजन हेनरिक जिमरमन ने 24 मार्च, 1925 को जर्मनी के बर्लिन में स्थित स्पोर्ट्स पैलेस में किया था. किंतु वर्ष 1929 से यह दिवस 4 अक्टूबर को मनाया जाने लगा. शुरू में इस आंदोलन को जर्मनी में मनाया गया और धीरे-धीरे यह पूरी दुनिया में फ़ैल गया. 1931 में फ्लोरेंस, इटली में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय पशु संरक्षण सम्मेलन ने अंतर्राष्ट्रीय पशु दिवस के रूप में 4 अक्टूबर को मनाने के लिए एक प्रस्ताव पारित किया और अनुमोदित किया. यूनाइटेड नेशंस ने “पशु कल्याण पर एक सार्वभौम घोषणा” के नियम एवं निर्देशों के अधीन अनेक अभियानों की शुरुआत की. नैतिकता की दृष्टि से, संयुक्त राष्ट्र ने सर्वाजनिक रूप से की गई घोषणा में पशुओ के दर्द और पीड़ा के सन्दर्भ में उन्हें संवेदनशील प्राणी के रूप में पहचान देने की बात की.
पशु दिवस का महत्व

विश्व पशु दिवस का उद्देश्य पशु कल्याण मानकों में सुधार करना और व्यक्तियों तथा संगठनों का समर्थन प्राप्त करना है. इस दिवस का मूल उद्देश्य विलुप्त हुए प्राणियों की रक्षा करना और मानव से उनके संबंधो को मजबूत करना है. अन्तरराष्ट्रीय पशु दिवस इस धारणा पर काम करता है कि प्रत्येक जानवर एक अनोखा संवेदनात्मक प्राणी है और इसलिए वह संवेदना और सामाजिक न्याय पाने के भी योग्य है. किसी प्राकृतिक आपदा के समय भी इन जानवरों के प्रति दोयम दर्जे का व्यवहार किया जाता था और उनकी सुरक्षा के प्रति लापरवाही बरती जाती है जो गलत है.

पशु दिवस समारोह
विश्व पशु कल्याण दिवस पर जानवरों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए विभिन्न प्रकार के समारोहों का आयोजन किया जाता हैं – जैसे विश्व पशु कल्याण अभियान, पशुओं के लिए बचाव आश्रयों का उद्घाटन,जानवरों के लिए आश्रय के निर्माणऔर फंड जुटाने से सम्बंधित कार्यक्रमों का आयोजन इत्यादि.

विषय: यह राष्ट्रीयता, धर्म, आस्था या राजनीतिक विचारधारा से परे हर देश में अलग-अलग तरीकों से मनाया जाता है और इस अवसर पर इन सभी देशों के विषय इन पशुओं के प्रति अलग- अलग होते हैं. हम बढ़ी हुई जागरूकता और शिक्षा के माध्यम से एक ऐसी दुनिया का निर्माण कर सकते हैं, जहां जानवरों को मनुष्य के सबसे करीब माना जाता है.


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/newswebp/theblat.in/wp-includes/functions.php on line 4673