सरकार की एसएंडटी नीति में युवाओं को प्रोत्साहित करना शामिल : मंत्री हर्षवर्धन

नई दिल्ली। सरकार की विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी (एसएंडटी) नीति में देश के विद्यार्थियों/युवाओं को विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में प्रोत्सा)हित करना शामिल है। सरकार देश के विद्यार्थियों/युवाओं को विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में आने के लिए आकर्षित करने हेतु कई स्की में कार्यान्वित कर रही है। ‘’अभिप्रेरित अनुसंधान के लिए विज्ञान की खोज में नवोन्मेेष (इस्पारयर)’ मेधावी और प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को विज्ञान विषय का अध्यलयन करने तथा अनुसंधान और विकास (आरएंडडी) में कैरियर का विकल्पक देने की दृष्टि से उन्हेंो आकर्षित, अभिप्रेरित, पोषित तथा प्रशिक्षित करने वाली कार्यशील बड़ी स्की म है जिससे गुणवत्तापूर्ण जनशक्ति के निर्माण की प्रक्रिया प्रारंभ होने के परिणामस्वषरूप देश में आरएंडडी जनशक्ति के स्रोत का विस्ता्र हो सकता है। देशभर के सभी मान्य्ताप्राप्तस विद्यालयों की छठी-10वीं कक्षा के लगभग 42,000 युवा छात्र इंस्पाैयर पुरस्का र मानक (मिलियन माइंड्स ऑगमेंटिंग नैशनल इंस्पिरेशन एंड नॉलेज) प्रति वर्ष प्राप्तस करते हैं। प्रति वर्ष लगभग 20,000 छात्र विज्ञान के सृजनात्मगक कार्य का रोचक अनुभव प्राप्तक करने के लिए इंस्पातयर प्रशिक्षुतावृत्ति कैंपों में हिस्सा लेते हैं। 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा में उत्तीार्ण शीर्ष 1 फीसदी, में लगभग 10,000 छात्र मूलभूत एवं प्राकृतिक विज्ञान में बी.एससी. और एम.एससी. पाठ्यक्रमों का अध्येयन करने के लिए उच्चलतर शिक्षा छात्रवृत्ति (एसएचई) प्रति वर्ष प्राप्तत करते हैं। प्रत्येडक वर्ष, लगभग 1,000 छात्र पी.एचडी. उपाधि के अनुशीलन के लिए इंस्पावयर अध्‍येतावृत्ति प्राप्तत कर रहे हैं। प्रति वर्ष 100 युवा अनुसंधानकर्ता अनाश्रित पोस्टक डॉक्टगरल अनुसंधानकर्ताओं के रूप में स्वययं को स्थाापित करने के लिए इंस्पा यर संकाय अध्येुतावृत्तियां प्राप्तो कर रहे हैं। युवा छात्रों को आककर्षित एवं प्रेरित करने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) द्वारा लिंडो मीटिंग विद नोबल लॉरेट्स, एशियन साइंस कैंप्से, रमन चार्पाक फेलोशिप, सकूरा एक्सकचेंज प्रोग्राम आदि जैसे कई अंतर्राष्ट्री य कार्यक्रमों का कार्यान्व यन भी किया जा रहा है। डीएसटी प्रक्षेत्र के स्वाायत्ते संस्थाआन भी बडी संख्याट में ग्रीष्मक अनुसंधान प्रशिक्षुओं, पीएच.डी. तथा पोस्टई डॉक्टीरल अध्येपताओं को प्रशिक्षण देते हैं, बडी संख्याे में महत्व्पूर्ण राष्ट्री य/अंतर्राष्ट्री य सम्मे्लन आयोजित करते हैं, अपने वैज्ञानिकों द्वारा व्यािख्याेनों, अभिविन्याास कार्यक्रमों आदि सहित प्रसार कार्यक्रम विद्यालयों एवं महाविद्यालयों के छात्रों के लिए आयोजित करते हैं।

-एसटीआई नीति के प्रथम 3 मुख्यभ घटक
-समाज के सभी स्तपरों में वैज्ञानिक प्रवृत्ति के प्रसार का संवर्धन करना।
-सभी सामाजिक स्तपरों के युवाओं में विज्ञान के अनुप्रयोगों संबंधी कौशल का विकास करना।
-विज्ञान, अनुसंधान तथा नवोन्मेेष में कैरिअर निर्माण को प्रतिभावान एवं तीव्र बुद्धि वाले छात्रों के लिए आकर्षक बनाना।

blat