मुख्यमंत्री योगी ने 86.95 लाख पेंशन लाभार्थियों के खाते में हस्तान्तरित किए 1,311 करोड़

-उपचुनाव को लेकर मुख्यमंत्री व प्रदेश अध्यक्ष ने ली वीडियो कांफ्रेसिंग से पार्टी की बैठक

-कहा-हमने नर सेवा को नारायण सेवा के साथ भी जोड़कर देखा

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को 86,95,027 वृद्धावस्था, निराश्रित महिला, दिव्यांगजन और कुष्ठावस्था पेंशन लाभार्थियों को 1311.05 करोड़ की पेंशन धनराशि उनके खाते में हस्तान्तरित की। इस दौरान उन्होंने कहा कि आज जुलाई, अगस्त, सितम्बर माह की पेंशन एक साथ इन सभी लाभार्थियों के खाते में जा रही है। तकनीक इतनी सशक्त होती है कि एक बटन दबाते ही सभी लाभार्थियों के खाते मं पेंशन पहुंच जाएगी। हम सबको प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार व्यक्त करना चाहिए, जिनके कारण आज प्रत्येक लाभार्थी के खाते में सीधे पैसे पहुंच रहे हैं और बड़ी संख्या में लाभार्थी शासन की योजनाओं से लाभान्वित हो रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुष्ठावस्था पेंशन के अंतर्गत प्रत्येक लाभार्थी को हम 2,500 प्रतिमाह उपलब्ध करवाते हैं।

शेष अन्य पेंशन धारकों को हर माह 500 रुपये उपलब्ध करवाने का कार्य किया जा रहा है। यह राशि इन सभी लाभार्थियों को उनके सामान्य भरण-पोषण के लिए दी जाती है। यह केंद्र व राज्य सरकार की योजना का एक भाग और शासन की लोक कल्याणकारी योजनाओं का भी एक हिस्सा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने नर सेवा को नारायण सेवा के साथ भी जोड़कर देखा है। यह एक महत्वपूर्ण कार्य है कि अगर कोई निराश्रित या दिव्यांग है, तो हम सहानुभूति रखकर शासन की योजनाओं के माध्यम से उनके जीवन में खुशहाली लाने में योगदान दे सकते हैं। हमारा प्रयास होना चाहिए कि शासन से जुड़ी योजना का लाभ प्रत्येक नागरिक तक पहुंचे। खासतौर पर वृद्धजन, निराश्रित महिलाएं, दिव्यांगजन या अन्य व्यक्ति जो इसी प्रकार से किसी अन्य कैटेगरी में आते हैं।

उन्होंने कहा कि हम किसी प्रकार से यह न मानें कि पेंशन लाभार्थी के साथ कोई खड़ा नहीं है। समाज और सरकार को उनके साथ खड़ा होना होगा तथा प्रशासन को उनकी मदद के लिए सदैव तत्पर रहना होगा। हमें यह देखना होगा कि कौन से ऐसे लाभार्थी हैं, जिनके पास राशन कार्ड की सुविधा नहीं है। अप्रैल माह से हर महीने में दो बार प्रत्येक नागरिक को सरकार द्वारा लगातार राशन उपलब्ध कराया जा रहा है। यह कार्य निरंतर चल रहा है, जिससे कोरोना काल में किसी भी व्यक्ति के सामने भोजन का संकट न आए। जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, उनके लिए तत्काल राशन कार्ड बनाकर राशन उपलब्ध करवाने के भी निर्देश दिए गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई व्यक्ति बीमार होता है, तो उसके पास आयुष्मान भारत का कार्ड या मुख्यमंत्री जन आरोग्य कार्ड पहले से उपलब्ध है। अगर कार्ड नहीं बना है, तो उपचार के लिए तत्काल 1,000 रुपये की राशि ग्राम प्रधान निधि या नगर निकाय निधि से उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं।

दुर्भाग्य से किसी निराश्रित व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है और अंतिम संस्कार की व्यवस्था नहीं है, तो जिलाधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वह प्रधान निधि, नगर निकाय या मुख्यमंत्री राहत कोष से 5,000 रुपये की व्यवस्था करते हुए अंतिम संस्कार सम्पन्न करवाएं। कोई भी व्यक्ति निराश्रित न रहे और कहीं भी शासन की इस योजना से वंचित न रहे, हमें इसका ध्यान हर स्तर पर रखना होगा। हमारा प्रयास होना चाहिए कि प्रत्येक गरीब, किसान या जरूरतमंद को बिना किसी भेदभाव के शासन की योजना के साथ जोड़ा जाए। मुख्यमंत्री ने प्रशासनिक अधिकारियों से कहा कि इन सभी कैटेगरी में आने वाले लोगों में अगर कोई पेंशन से वंचित रह गया है, तो पात्रता को देखते हुए उन्हें पेंशन की सुविधा उपलब्ध कराई जानी चाहिए।

राशन कार्ड नहीं बन पाया है तो तत्काल राशन कार्ड बनाए जाएं। उन्होंने कहा कि अगर उनके पास आवासीय सुविधा नहीं है, तो उन्हें तत्काल आवासीय सुविधा उपलब्ध कराने की कार्रवाई भी प्राथमिकता के आधार पर करें। इससे वास्तव में शासन की योजना का लाभ समाज के अंतिम पायदान पर बैठे लोगों तक पहुंचने में देर नहीं लगेगी। आज 86,95,027 पेंशन लाभार्थियों को 1311.05 करोड़ की जो पेंशन धनराशि हस्तान्तरित की गई है, इनमें वृद्धावस्था पेंशन योजना के 49,87,054 लाभार्थियों को 746.06 करोड़, पति की मृत्यु के बाद निराश्रित महिला पेंशन योजना के 26,06,213 लाभार्थियों को 390.93 करोड़, दिव्यांग भरण पोषण अनुदान योजना के तहत 10,90,436 लाभार्थियों को 163.57 करोड़ और कुष्ठावस्था पेंशन योजना के 11,324 लाभार्थियों को 8.49 करोड़ रुपये की धनराशि प्रदान की गई।

प्रदेश सरकार के मुताबिक पेंशन योजना के अंतर्गत 86,71,781 लाभार्थियों को पेंशन योजनाओं की प्रथम त्रैमासिक यानी अप्रैल, मई एवं जून की किश्त व प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के अंतर्गत प्रति लाभार्थी एक हजार रुपये अतिरिक्त देय के रूप में कुल 21,73,31 करोड़ का अनुदान पूर्व में वितरण किया जा चुका है। इस प्रकार अब तक वर्तमान प्रेषित धनराशि को शामिल करते हुए कुल 86,95,027 लाभार्थियों को 3484.39 करोड़ की अनुदान धनराशि वितरित की जा चुकी है। इस प्रकार अब तक निराश्रित महिला पेंशन, वृद्धावस्था पेंशन, दिव्यांगजन भरण-पोषण पेंशन के प्रत्येक लाभार्थी को 4000 रुपये तथा कुष्ठावस्था पेंशन योजना के प्रत्येक लाभार्थी को 15,000 की धनराशि भेजी जा चुकी है।

आलू, प्याज और टमाटर की जमाखोरी करने वालों पर की जाए कार्रवाई : योगी आदित्यनाथ

blat