-लखनऊ में संक्रमण रोकने को दो अपर मुख्य सचिवों को दी जिम्मेदारी
-प्रमुख सचिव स्वास्थ्य को कानपुर की चिकित्सा व्यवस्थाओं की समीक्षा का दिया निर्देश

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना के उपचार की सभी आवश्यक दवाओं की बैकअप सहित पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि जिला चिकित्सालयों, मेडिकल काॅलेजों तथा चिकित्सा संस्थानों में औषधियों एवं ऑक्सीजन की सुचारु व्यवस्था बनायी रखी जाए। मुख्यमंत्री ने बुधवार को लोक भवन में एक उच्चस्तरीय बैठक में कोविड अस्पतालों की व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरुस्त बनाये रखने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि चिकित्सक एवं नर्सिंग स्टाफ, वाॅर्ड्स में नियमित राउण्ड लें। डाॅक्टरों तथा पैरामेडिक्स को प्रशिक्षित करने की प्रक्रिया लगातार जारी रहे। मुख्यमंत्री ने कोविड चिकित्सालयों में बेड की संख्या में वृद्धि करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग का कार्य पूरी तेजी से संचालित किया जाए। इसके लिए सर्विलान्स टीम की व्यवस्था को और मजबूत बनाया जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि रोगियों के लिए ऑक्सीजन निर्धारित दर पर उपलब्ध हो।

इसकी कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। मुख्यमंत्री ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर जनपद लखनऊ व कानपुर नगर में उपचार व्यवस्था को और सुदृढ़ किये जाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य तथा अपर मुख्य सचिव ग्राम्य विकास एवं पंचायतीराज जनपद लखनऊ की चिकित्सा व्यवस्थाओं की समीक्षा करें। प्रमुख सचिव स्वास्थ्य जनपद कानपुर नगर की चिकित्सा व्यवस्थाओं की समीक्षा करें। उन्होंने कहा कि कोविड संक्रमित रोगी को समय से अस्पताल में भर्ती कराते हुए इलाज प्रारम्भ किये जाने से अधिक से अधिक जीवन रक्षा की जा सकती है। इसलिए कोरोना के उपचार की प्रभावी व्यवस्था को हर हाल में बनाए रखा जाए। मुख्यमंत्री ने कोविड चिकित्सालय में भर्ती मरीजों की गहन माॅनिटरिंग करने के निर्देश दिये हैं।

उन्होंने कहा कि सफलतापूर्वक उपचारित किये गये रोगियों की इलाज विधि का बारीकी से अध्ययन किया जाए। इससे अन्य मरीजों का सफल इलाज करने में मदद मिलेगी। उन्होंने अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा को मेडिकल काॅलेज व चिकित्सा संस्थानों में तथा अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य को जिला चिकित्सालयों में इसकी समीक्षा कराने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री ने कोरोना से सुरक्षा एवं बचाव के सम्बन्ध में लोगों को जागरूक करने की कार्यवाही को लगातार जारी रखने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जब तक इस रोग की कोई कारगर दवा अथवा वैक्सीन विकसित नहीं हो जाती, तब तक बचाव ही सबसे अच्छा उपाय है।

इसलिए कोरोना के सम्बन्ध में जागरूकता की कार्यवाही प्रभावी ढंग से संचालित की जाए। बैठक में मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से जनता को कोरोना से बचाव एवं सड़क सुरक्षा के सम्बन्ध में जागरूक करने के उद्देश्य से कार्ययोजना तैयार कर ली गयी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता को उचित मूल्य पर सब्जियां उपलब्ध कराने के लिए सभी जरूरी कदम उठाये जाएं। उन्होंने आलू, प्याज, टमाटर की जमाखोरी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि मूल्य समर्थन योजना के तहत धान की खरीद के लिए समयबद्ध ढंग से तैयारियां सुनिश्चित की जाएं। धान क्रय केन्द्रों की संख्या में वृद्धि का आकलन कर इसे लागू किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति (एसएलबीसी) की बैठक में विभिन्न योजनाओं के तहत ऋण प्रदान करने की कार्ययोजना बनायी जाए। उद्यमियों, बेरोजगारों तथा अन्य पात्र लोगों को ऋण उपलब्ध कराने के जनपदवार लक्ष्यों की समीक्षा करते हुए इसकी पूर्ति सुनिश्चित की जाए।


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/newswebp/theblat.in/wp-includes/functions.php on line 4673