राफेल बिहार व बंगाल का चुनावी मुद्दा: आफाक

लखनऊ। राष्ट्रीय सामाजिक कार्यकर्ता संगठन के संयोजक मुहम्मद आफाक ने जारी अपने बयान में कहा कि राफेल भारत आ गया है लेकिन भारतीय मीडिया (गोदी मीडिया) ऐसा प्रचार-प्रसार कर रही है जैसे कि चीन से विजय करके लौटा है। अभी इतनी प्रसिद्धि क्यों दे पैसा देकर समान तो सब खरीदते है लेकिन जब उसका उपयोग करने के बाद उसका परिणाम आए तो बेहतर होता। लेकिन गोदी मीडिया ऐसे वाहवाही पर लगी है कि जैसे कि राफेल ने चीन पर कब्जा जमा लिया है। जब कि सबको पता है कि टेक्नालॉजी में चीन भारत से आगे है और केवल राफेल से समस्या का समाधान नहीं होगा। चीन हमारे भारत से एक साल बाद आजाद हुआ लेकिन आजादी के बाद से चीन ने टेक्नॉलाजी पूरा ध्यान दिया लेकिन हमारे राजनेताओं ने भारतवासियों को गाय, गोबर, मूत्र, गंगा शमषान, कब्रस्तान के मुद्दों में फंसा दिया। यह आज देखा जा सकता है कि हम कितने पीछे और कई देष हमसे आगे हैं। जब चुनाव करीब आता है तो मंदिर-मस्जिद में उलझाकर चुनाव जीतने का लक्ष्य प्राप्त किया जाता है जबकि देष में भुखमरी, बेरोजगारी, कोरोना जैसी महामारी से जनता जूझ रही है इस सबकी कोई परवाह नहीं है। यह भी हम सभी को सोचने की जरूरत है। अंत में मुहम्मद आफाक ने कहा कि 5 अगस्त राम मंदिर का निर्माण हो रहा है। राम मंदिर के बहाने जो सम्पत्ति है उस पर आर.एस.एस. का कब्जा होने जा रहा है। देष बहुत पीछे चला गया है। गवाकर व सलवाकर की विचारधारा पर देष चलाने का प्रयास किया जा रहा है। यह हमें समझने की जरूरत है। कई लाख विदेषों से भारतीय वापस किया जा रहा है उसकी कोई प्लानिंग नहीं और मंदिर पर करोड़ो रूपया खर्च करने की सोच है कोरोना जैसी महामारी से बेरोजगार लोगों को रोजगार देने की कोई चिंता नहीं।

blat