पब्लिक भी पुलिस का रोल अदा कर रही है: डीसीपी पश्चिम

लखनऊ । बकरीद, रक्षाबंधन और स्वतन्त्रता दिवस जैसे प्रमुख पर्वों पर पुलिस की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। वही जब कोरोना के चलते एक-एक करते कई थानों की पुलिस लगातार कोरोना संक्रमित हो रही है तो आम आदमी के मन में चिंता की लकीरें आना स्वभाविक है। 112, 108 जीआपी, पुलिस लाइन थाना मोहनलालगंज, तालकटोरा, नाका, चिनहट, आशियाना आदि में बड़ी संख्या में पुलिस कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाये गये है। इनके साथ-साथ बहुत से अन्य को भी क्वारेंटीन किया गया। जिससे कही न कही पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रभाव पड़ा है पुलिस उप-आयुक्त पश्चिम डीसीपी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने बताया कि कोरोना एक बीमारी है जो किसी को भी हो सकती है। पुलिस आने वाले त्योहारों को शासन द्वारा दी गयी गाइडलाइन के साथ जिम्मेदारी से निभा रही है। कोरोना संक्रमण के साथ पुलिस नागरिकों को बचा भी रही है और शहर में क्राइम को भी कंट्रोल कर रही है। त्योहारों के मद्देनजर अपराध और अपराधियों पर पुलिस की पैनी नजर है। कोरोना योद्धा भी एक इन्सान उनको भी कोरोना संक्रमण होना सामान्य घटना है। डीसीपी के अनुसार कोरोना से पुलिसकर्मियों के पॉजिटिव होने से पुलिस का मनोबल कम नहीं हुआ है। पुलिसकर्मी और भी अधिक सावधानी से अपनी ड्यूटी कर रहे है। एक साथ पॉजिटिव होने से और क्वारेंटीन होने से संख्या में कुछ कमी हो सकती है। परन्तु आज के जागरूक नागरिक खुद पुलिस का रोल अदा कर रहे है। पब्लिक ही पुलिस है। ऐसे में पुलिस का मनोबल और संख्याबल कम नही हुआ है बल्कि कई गुना बढ़ा है। एसीपी बाजारखाला अनूप कुमार के अनुसार कोरोना संक्रमणकाल में पुलिस उच्च मनोबल के साथ कार्य कर रही है। बकरीद जैसे प्रमुख त्यौहार को कोविड-19 प्रोटोकाल और शासन द्वारा दी गयी गाइड लाइन के अनुपालन के साथ सम्पन्न कराने के लिये पुलिस अपनी जिम्मेदारी के साथ मुस्तैद है। पुलिस कमिश्नर और पुलिस उप-आयुक्त पश्चिम इस सम्बन्ध में सभी को पूरी तरह ब्रीफ कर चुके है। पुलिसकर्मियों में कोरोना संक्रमण से पुलिस की कार्यप्रणाली पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। कोरोना, क्राइम और त्यौहारों पर सुरक्षा के लिये पुलिस पूरी तरह तैयार है।

blat