लखनऊ। आराधना मिश्रा मोना, नेता, कांग्रेस विधान मण्डल दल, उत्तर प्रदेश ने मुख्यमन्त्री को पत्र लिखकर अंतर्राष्ट्रीय पर्यटक ताज नगरी आगरा में शर्मसार करने वाली घटना की उच्च स्तरीय जॉच कराने की मांग की है । नेता, कांग्रेस विधान मण्डल दल ने कहा है कि देश के आजादी के लगभग 73 साल बाद शर्मसार करने वाली जो घटना अंतर्राष्ट्रीय पर्यटक स्थल ताजनगरी आगरा में घटित हुई है उससे प्रत्येक भारतवासी का सिर शर्म से झुुक गया है। चिता से एक महिला का शव मात्र इसलिये हटा दिया गया क्योंकि वह ”दलित थी, और उसके पिता और 2 साल के बेटे को मजबूर किया गया कि वे उस महिला का शव अन्यत्र ले जाकर अंतिम संस्कार करें। नेता, कांग्रेस विधान मण्डल दल ने कहा है कि मानवता को शर्मसार करने वाली दलित उत्पीडऩ की यह घटना हर देशवासी के दिल को झकझोर देने वाली है और यह सोचने पर विवश करती है कि ताज नगरी आगरा, जहांॅ देश- विदेश के पर्यटक आते हैं, और केन्द्र और प्रदेश में भारतीय जनतापार्टी की सरकार है, जो दलित हित का ढिंढोरा पीटती है, तो ऐसे में ताजनगरी आगरा में घटित होने वाली यह घटना उनके मुंह पर एक करारा तमाचा है। निश्चित रूप से यह अत्यंत ही शर्मनाक घटना है , इसकी उच्च स्तरीय जांॅच होनी चाहिए, और महिला आयोग, बाल आयोग तथा अनुसूचित जाति जनजाति आयोग को इसका संज्ञान लेना चाहिए, और इसकी जांॅच करायी जानी चाहिए। छोटी- छोटी बार पर जांॅच की नोटिस जारी करने वाले इस घटना पर खामोश क्यों है ? नेता, कांग्रेस विधान मण्डल दल ने मांग की है कि इस शर्मनाक घटना की ”न्यायिक जॉच जांॅच होनी चाहिए।

blat