लखनऊ। युवाओं में नौटंकी के आकर्षण को बढ़ाने के लिए लेखक और निर्देशक अमित दीक्षित ने नव नौटंकी विधा को विकसित किया है। इसमें उन्होंने एक ओर जहां नौटंकी की मूल परंपरा को अपनाया है वहीं उसमें शास्त्रीय संगीत को भी दक्षता के साथ जोड़ा है। ऐसे ही विविध नव प्रयोगों पर आधारित संगीतमय नौटंकी-नाट्य प्रस्तुति नौटंकी के रंग, रंग संगीत के संग का प्रसारण बुधवार 29 जुलाई को शाम 7 बजे समूहन कला संस्थान के फेसबुक पेज पर किया जाएगा। मंगलवार को इस कार्यक्रम के पोस्टर को जारी करते हुए अमित दीक्षित ने बताया कि चौक स्थित उनके स्टूडियो से इस कार्यक्रम का प्रसारण किया जाएगा। वाराणसी की संस्था आवर्तन के संयुक्त प्रयास से कला प्रभा के 52वें अंक में नौटंकी के साथ आधुनिक नाटकीय तत्वों का तालमेल भी देखने को मिलेगा। इसमें उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी सम्मान प्राप्त निर्देशक, अभिनेता, लेखक और गायक अमित दीक्षित बीते 25 वर्षों में नौटंकी और उनके प्रयोग विषय पर संगीतमय प्रस्तुति देंगे। इसमें एक ओर जहां नौटंकी का पारंपरिक वाद्य नक्कारा, शहनाई को शामिल किया जाएगा वहीं शुद्ध शास्त्री संगीत के अंतर्गत तबला वादन को भी जोड़ा जाएगा। पोस्टर लांचिंग कार्यक्रम में ष्सत्य समर्पणष् समूह के महासचिव ने नौटंकी के अपने प्रयोग को अपने एक गीत के माध्यम से स्पष्ट किया। उसके बोल थे “देखिये सुनिये तो नौटंकी का नया चलन, तबले नक्कारे का है अनोखा मिलन”। उन्होंने बताया कि बैठकी अंदाज की इस प्रस्तुति में हास्य रस तक को शामिल किया जाएगा।


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/newswebp/theblat.in/wp-includes/functions.php on line 4673