दस बंग्लादेशी जमातियों को अंतरिम जमानत

लखनऊ। हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने दस बांग्लादेशी जमातियों को अंतरिम जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया है। न्यायालय ने इन सभी पर सख्त पाबंदियां लगाते हुए, बिना कोर्ट की इजाजत के देश छोडऩे पर भी रोक लगा दी है। यह आदेश न्यायमूर्ति एआर मसूदी की एकल सदस्यीय पीठ ने मति-उर-रहमान, अब्दुल मलिक, मोहम्मद जहीर-उल-आलम, हारून रसीद, मोहम्मद दिलवाद शरीफ, हजी मोहम्मद अयूब, मोहम्मद मोहसिन, जानी हुसैन, मोहम्मद शाह आलम हुसैन व मोहम्मद अबु सईद खान की ओर से दाखिल जमानत याचिका पर पारित किया। हालांकि न्यायालय ने यह स्पष्ट किया है कि इनमें से हाजी मोहम्मद अयूब का वीजा 15 जुलाई 2020 को समाप्त हो जाने के कारण उसके वीजा की अवधि बढाए जाने पर ही उसे अंतरिम जमानत पर रिहा किया जाएगा। याचियों के अधिवक्ता प्रांशु अग्रवाल ने बताया कि याचियों को सीतापुर जनपद के खैराबाद थानांतर्गत गिरफ्तार किया गया था। उन पर आपदा प्रबंधन अधिनियम व वीजा नियमों का उल्लंघन कर के निजामुद्दीन दिल्ली में जमात की मजलिस में भाग लेने का आरोप है।

blat