तिरुपति आंध्र प्रदेश में 101 वर्षीय एक बुजुर्ग महिला ने कोरोनावायरस जैसी घातक बीमारी से जंग जीतकर एक उदाहरण पेश किया है। उनके डॉक्टर का कहना है कि उनकी इच्छाशक्ति इस बीमारी से लडऩे में उनकी ताकत बनी। यह बुजुर्ग महिला अब अन्य कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए प्रेरणास्रोत बन गई है। वह ऐसे समय में ठीक हुई हैं जब राज्य में कोरोनोवायरस के मामलों और मौतों की संख्या में बढ़ोतरी देखी जा रही है। पलाकुरी मंगम्मा को शनिवार को श्री वेंकटेश्वर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एसवीआईएमएस) से छुट्टी दे दी गई। वह राज्य में कोरोना से ठीक होने वाली सबसे उम्रदराज मरीज हैं। तिरुपति की रहने वाली महिला को लगभग 10 दिनों पहले कोरोना पॉजिटिव निकलने के बाद एसवीआईएमएस में भर्ती कराया गया था। सबसे कमजोर होने के बावजूद, महिला ने स्वास्थ्य में जबरदस्त सुधार दिखाया। एसवीआईएमएस के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. आर. राम ने कहा, इलाज के प्रति उनकी अच्छी प्रतिक्रिया रही। वह अपनी इच्छा शक्ति से इस बीमारी को हरा सकी। यह निश्चित रूप से कई लोगों के लिए प्रेरणा है। उन्होंने आशा जताई की बुजुर्ग महिला की रिकवरी कई अन्य लोगों को प्रेरित करेगी। डॉ. राम ने कहा कि इच्छाशक्ति बहुत मायने रखती है कई लोग कोरोना पॉजिटिव निकलने के बाद उम्मीद खो देते हैं। मंगम्मा ऐसे लोगों के लिए एक मिसाल हैं।


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/newswebp/theblat.in/wp-includes/functions.php on line 4673