अलीगढ़। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के वीसी प्रोफेसर तारिक मंसूर ने 29 लाख रूपए की लागत से यूनिवर्सिटी के ही जवाहर लाल नेहरू मेडीकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में स्थित ब्लड बैंक के लिए एक नई प्लाज्मा थेरेपी मशीन को खरीदने के लिए स्वीकृति प्रदान की है। जानकारी के अनुसार, यूनिवर्सिटी के वीसी ने कहा कि कोविड-19 संक्रमित रोगियों के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सहायक सिद्ध हुई है। परन्तु प्लाज्मा दान करने वाले व्यक्ति के लिए आवश्यक है कि वह शारीरिक रूप से पूर्ण रूप से स्वस्थ हो तथा उसकी उम्र कम से कम 17 वर्ष होनी चाहिए। वीसी प्रोफेसर तारिक मंसूर ने आगे कहा कि प्लाज्मा दान करने वाले व्यक्ति की लम्बाई तथा वजन के अनुरूप उसके शरीर में उपलब्ध रक्त की मात्रा के हिसाब से प्लाज्मा दान लिया जाता है। बता दें कि एएमयू का जवाहर लाल नेहरू मेडीकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल को सरकार ने कोविड-19 लेवेल-2 अस्पताल की मान्यता प्रदान की हुई है। जेएन मेडिकल कॉलेज में अब तक 40,000 से अधिक कोरोना नमूनों की जांच की जा चुकी है। जिसके लिए दो आरटी-पी सी आर मशीनों का प्रयोग किया जा रहा है। इसके साथ ही जेएन मेडिकल कॉलेज में विभिन्न विभागों द्वारा नॉन-कोविड मरीजों के लिए टेलीमेडीसिन व्यवस्था के अंतर्गत चिकित्सीय परामर्श प्रदान किया जा रहा है। वीसी प्रोफेसर तारिक मंसूर के इस निर्णय का मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर ने भी स्वागत किया है। दिन रात कार्य कर रहे जूनियर डॉक्टर ने इस प्रयास को सराहनीय कहा है।


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/newswebp/theblat.in/wp-includes/functions.php on line 4673