एमसीडी को छह हजार करोड़ का नुकसान : आप

 

द ब्लाट न्यूज़ । आम आदमी पार्टी ने भाजपा शासित एमसीडी पर टोल टैक्स कंपनी से साठगांठ कर एमसीडी को 6000 करोड़ रुपये का आर्थिक नुकसान करवाने का आरोप लगाया है। साथ ही कहा गया है कि जिस सालाना दर पर ठेका दिया गया था, कंपनियों ने उस रूप में पूरा पैसा जमा नहीं किया। उसके बाद भी कोरोना के नाम पर भाजपा शासित एमसीडी ने उन्हें छूट देना जारी रखा। आप विधायक और एमसीडी प्रभारी दुर्गेश पाठक ने मामले की जांच कराने की मांग की है।

पार्टी कार्यालय में आयोजित पत्रकारवार्ता में दुर्गेश पाठक ने बताया कि 2017 में एमईपी इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपर्स लिमिटेड नाम की कंपनी को 1200 करोड़ प्रति वर्ष के अनुसार पांच साल के लिए टोल का ठेका दिया गया।

कंपनी ने पहले साल पूरा पैसा देने के बाद अगले साल से कभी पूरे पैसे का 10 फीसदी तो कभी 20 फीसदी ही दिया। उसके बाद भी कंपनी के खिलाफ कार्रवाई के बजाय ठेका जारी रखा गया। 2021 में वही ठेका शहाकर ग्लोबल लिमिटेड नाम की कंपनी को मात्र 786 करोड़ में दिया गया। वह कंपनी भी एमसीडी को सिर्फ 250 करोड़ के लगभग ही देती है। आप विधायक ने कहा कि इसके बाद भी भाजपा ने नई कंपनी को कोरोना काल के नाम पर 83 करोड़ रुपये की छूट दी। उन्होंने कहा कि बड़ी बात यह है कि दोनों कंपनियों का मालिक एक है। पहली कंपनी को हटाने के बाद भी जिस दूसरी कंपनी को ठेका गया उसका मालिक भी वही था। यह बिना साठगांठ के संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर इस पूरे मामले की ठीक से जांच हो तो बड़े-बड़े भाजपा नेता जेल जाएंगे।

Check Also

द्वारका से नोएडा के बीच कल सेवा प्रभावित रहेगी

द ब्लाट न्यूज़ ब्लू लाइन पर मरम्मत कार्य के चलते रविवार को द्वारका से नोएडा …