भारत में कोविड-19 रोधी टीकों का उत्पादन बढ़ने से बहुत फायदा हो सकता है : अमेरिकी प्रशासन

वाशिंगटन । अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रशासन ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारत में कोविड-19 रोधी टीकों का निर्माण बढ़ने से सीमा पार भी संक्रमण से निपटने में मदद मिल सकती है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने पत्रकारों से कहा, ‘‘ यह हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि भारत वैश्विक महामारी से काफी प्रभावित है। वस्तुतः भारतीय समाज में कोई भी इस भयानक विपदा से अछूता नहीं रहा है। इसलिए हम भारत में उत्पादन बढ़ाने पर ध्यान देने को कह रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ भारत में उत्पादन बढ़ाने का कदम, भारत की सीमा पार भी कारगर साबित हो सकता है। इसलिए ही यह व्यवस्था और क्वाड के संदर्भ में इसकी घोषणा की गई थी।’’ इस साल की शुरुआत में क्वाड शिखर सम्मेलन में सदस्य देशों ने भारत के कोविड-19 रोधी टीकों की उत्पादन क्षमता बढ़ाने के लिए मिलकर काम करने का फैसला किया गया था। क्वाड में ऑस्ट्रेलिया, भारत, जापान और अमेरिका शामिल हैं। अमेरिका अभी तक कोविड-19 संबंधी सहायता के लिए भारत को 50 करोड़ डॉलर की मदद कर चुका है। इसमें सरकार की ओर से दिए गए 10 करोड़ डॉलर भी शामिल हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ हमें यह देखकर काफी खुशी हो रही है कि अमेरिकी सरकार और निजी क्षेत्र ने मिलकर जरूरत के समय भारत की करीब 0.5 अरब डॉलर की मदद की है।’’ वहीं, बाइडन प्रशासन ने बृहस्पतिवार को घोषणा की थी कि वह भारत सहित अन्य देशों को 2.5 करोड़ टीके भेजेगा। प्राइस ने कहा, ‘‘ प्रशासन अन्य 5.5 करोड़ टीके इस महीने के अंत तक विदेश भेजेगा।’’ उन्होंने कहा कि आगामी सप्ताह में इस संबंध में घोषणा की जाएगी।

Check Also

भारी बारिश के बाद मोहनजोदाड़ो में अनूठा ‘बुद्ध पेंडेंट’ मिला

  द ब्लाट न्यूज़ । पाकिस्तान के सिंध प्रांत में भारी बारिश के बाद वहां …