फर्क थोड़ा सा है तेरे और मेरे इश्क में तू अपनों के खातिर रात भर जागता है और मुझे समाज के हालात सोने नहीं देते

🌹 किसी ने सच ही कहा है की जुगनू किसी रोशनी का मोहताज नहीं होता अपने प्रकाश का स्वयं सृजन करता है🌹
जितनी अजीब यह बाहर की दुनिया है उससे भी ज्यादा अजीब यह अंदर की दुनिया है इंसान अपनी जिंदगी में हर कार्य सुख प्राप्त करने के लिए करता है अगर जिंदगी में परम आनंद की प्राप्ति करनी है तो निस्वार्थ भाव से किसी गरीब की मदद जरूर करना🌹🙏
इसी क्रम में आज 31 मई 2021 को पूर्व की भांति जोनल पार्क के गेट पर मन फाउंडेशन द्वारा कोरोना जांच शिविर लगवाया गयl जिसका लाभ आसपास की जनता को प्राप्त हो रहा है मन फाउंडेशन से सुधारानी बृजेश द्विवेदी द्वारा समाज हित में निरंतर कार्य किया जा रहा है ईश्वर की कृपा और आप सभी का सहयोग प्राप्त हो रहा है🙏
सहायता और मदद का यह प्रयास मन फाउंडेशन द्वारा आगे भी चलता रहेगा मन फाउंडेशन से सुधारानी बृजेश द्विवेदी उपस्थित रहे
धन्यवाद🙏

Check Also

आखिर क्यों फिर याद आया, वह काला दिन…

-डॉ. वेदप्रताप वैदिक- द ब्लाट न्यूज़ | 26 जून, 1975 का काला दिन आज 46 …