हाथ बांधे क्यों खड़े हो हादसों के सामने हादसे कुछ भी नहीं है हौसलों के सामने

निराश हुए बिना पराजय को सह लेना पृथ्वी पर साहस की सबसे बड़ी मिसाल है
जिस तरह वृक्ष कभी इस बात पर व्यथित नहीं होता कि उसने कितने पुष्प खो दिए
वह सदैव नए फूलों के सृजन में व्यस्त रहता है कुछ इसी तरह की सोच का सृजन कर चुका है मन फाउंडेशन छोटे-छोटे प्रयासों से लोगों की मदद करना समाज की सेवा करना इसी क्रम में आज 27 मई 2021 को पूर्व की भांति कोविड जांच शिविर स्थान जोनल पार्क पर लगवाया गया जहां बड़ी तादाद में लोगों ने कोविड जांच शिविर का लाभ उठाया l लोगों की आवश्यकता अनुसार दवाइयों का भी वितरण किया गया वर्तमान की परिस्थितियों को देखते हुए मन फाउंडेशन की ओर से सहायता और मदद का यह प्रयास आगे भी चलता रहेगा आज के जांच शिविर में वार्ड द्वितीय के सभासद श्री कौशलेंद्र जी का पूर्ण सहयोग रहा मन फाउंडेशन से सुधारानी बृजेश द्विवेदी सभासद कौशलेंद्र द्विवेदी पीके शर्मा उपस्थित रहे
धन्यवाद🙏

Check Also

आखिर क्यों फिर याद आया, वह काला दिन…

-डॉ. वेदप्रताप वैदिक- द ब्लाट न्यूज़ | 26 जून, 1975 का काला दिन आज 46 …