व्यापारी की बेटी ने प्रेमी से कराई थी घर में चोरी

गोसाईंगंज लखनऊ । मैंथा व्यापारी की बेटी ने ही घर में चोरी करवाई थी। वारदात में युवती का प्रेमी और उसके दो दोस्त शामिल थे। शनिवार को गोसाईंगंज पुलिस ने व्यापारी की बेटी को उसके प्रेमी और दोस्त संग गिरफ्तार करने के बाद यह दावा किया। आरोपियों के पास से पुलिस ने 11 लाख रुपये बरामद किए हैं। वारदात में शामिल एक आरोपी फरार है। जिसकी गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है।

डीसीपी डॉ. ख्याति गर्ग के मुताबिक, रसूलपुर निवासी मनोज ने शुक्रवार को चोरी का मुकदमा दर्ज कराया था। उन्होंने 13 लाख रुपये और चार लाख के गहने चोरी होने की जानकारी दी थी। इसके बाद गोसाईंगंज पुलिस जांच के लिए व्यापारी के घर पहुंची थी। छानबीन में व्यापारी के घर में जबरन दाखिल होने के सबूत नहीं मिले थे। चोरों ने अलमारी भी चाबी लगा कर खोली थी। ऐसे में परिवार के सदस्यों पर पुलिस का शक गहरा गया। मनोज की बेटी खुशबू से पुलिस के सामने बयान बदलती रही। शक के आधार पर उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। जिसमें खुशबू ने प्रेमी विनय यादव की मदद से चोरी कराने की बात कबूल ली। इस सूचना के आधार पर शनिवार सुबह सेंगटा गांव के पास से मलौनी निवासी विनय यादव और शुभम यादव को पकड़ा गया। विनय ने वारदात में रंजीत यादव के शामिल होने की जानकारी दी। डीसीपी के मुताबिक आरोपियों के पास से चुराए गए 11 लाख 29 हजार रुपये बरामद हुए हैं। बचे हुए रुपये और गहने रंजीत के पास हैं।

खुशबू के मुताबिक वह विनय से प्यार करती थी। परिवार वालों को इस बात की जानकारी थी। लेकिन वह लोग विनय से खुश नहीं थे। इस वजह से वह माता-पिता से नाराज रहती थी। घर से बाहर जाने पर भी उसे टोका जाता था। यह बात उसे नागवार गुजरती थी। माता-पिता से अलग होने का मन खुशबू ने बना लिया था। उसने विनय से इसका जिक्र किया था। बातचीत के दौरान विनय ने आर्थिक परेशानी का हवाला दिया था। इस पर खुशबू ने घर में रुपये और गहने रखे होने की बात कही। साथ ही चोरी करने की साजिश रच डाली। वारदात को अंजाम देने के लिए खुशबू ने माता-पिता को काढ़े में नशीली गोली मिला कर पिला दी। उनके बेहोश होते ही खुशबू ने दरवाजा खोल लिया। विनय साथियों को लेकर प्रेमिका के घर पहुंचा और अलमारी में रखे रुपये व गहने लेकर भाग निकला।

Check Also

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्कूली बच्चों के साथ बनाया आजादी का अमृत महोत्सव

लखनऊ,द ब्लाट। हाथों में राष्ट्रध्वज तिरंगा, मन में राष्ट्र के लिए कुछ कर गुजरने की …