कांग्रेस का आरोप: मोदी सरकार की असंवेदनशीलता का परिणाम है कोरोना की दूसरी लहर

नई दिल्ली। कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक के बाद पार्टी नेता केसी वेणुगोपाल ने कहा कि कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर एक बड़ी आपदा है और यह केंद्र की मोदी सरकार की असंवेदनशीलता और अकर्मठता का सीधा नतीजा है। यह सरकार की ओर से वैज्ञानिक सलाह को नजरअंदाज करने का सीधा परिणाम है। वेणुगोपाल ने कहा कि कांग्रेस कार्य समिति मोदी सरकार की टीकाकरण रणनीति को लेकर बेहद चिंतित है। उन्होंने कहा कि टीका आपूर्ति पर्याप्त नहीं है, इसके बाद भी सरकार तथ्यों को स्वीकार करने से इनकार करप रही है। उन्होंने कहा कि टीके की मूल्य निर्धारण नीति अपारदर्शी और भेदभावपूर्ण और आर्थिक रूप से विपरीत है। कांग्रेस नेता ने कहा कि सरकार ने उन राज्यों पर 18 से 45 वर्ष आयु वाले लोगों के टीकाकरण की जिम्मेदारी राज्यों पर डाल दी है, जो पहले से ही कई वित्तीय संकटों का सामना कर रहे हैं। वेणुगोपाल ने कहा कि अनिवार्य पंजीकरण और आकर टीका न लगवाने की सुविधा से लाखों लोग टीकाकरण से वंचित हो रहे हैं और होते रहेंगे। कांग्रेस ने चार राज्यों और एक केंद्रशासित प्रदेश के विधानसभा चुनावों में पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन के कारणों का पता लगाने के लिए अगले 48 घंटे के भीतर एक समूह गठित करने का फैसला किया है। पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सीडब्ल्यूसी की डिजिटल बैठक में यह प्रस्ताव किया कि चुनावी हार के कारणों का पता लगाने के लिए एक समूह का गठन किया जाएगा। केसी वेणुगोपाल ने इस संबंध में कहा कि अगले 48 घंटे के भीतर इस समूह का गठन कर दिया जाएगा और यह जल्द से जल्द अपनी रिपोर्ट देगा। एक सवाल के जवाब में वेणुगोपाल ने यह भी कहा, ‘इस समूह की रिपोर्ट के आधार पर आगे कदम उठाया जाएगा और जवाबदेही तय की जाएगी।’

Check Also

देश में पिछले 24 घंटे में 16866 लोग हुए संक्रमित, इतने मरीजों की मौत

भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है और पिछले कई दिनों …